Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।

मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
शुभ सृजन शिवालय, हर्षित आलय , ईश्वर करे प्रदान।।
अति पावन अवसर, आया शुभकर, जन्मदिवस है आज।
है कुमुद भावना, शुभम कामना, श्रेष्ठ मिले सरताज।।

हो अनुपम खुशियाँ, जीवन बगियाँ, आभा सम आदित्य।
दे शशि शीतलता, जल निर्मलता, खुशबू महके नित्य।।
पग-पग हो सावन, प्रण मनभावन, नित्य नवल सोपान।
जो मन की चाहत, मिले सदावत, प्रखर शीर्ष प्रतिमान।।

जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ आदरणीया मुदिता जी 💐💐💐🌺🌺🌺🌺🎂🎂🎂🎉🎉🎉🎉🎊

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
** जिंदगी  मे नहीं शिकायत है **
** जिंदगी मे नहीं शिकायत है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
-- मैं --
-- मैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पुस्तक
पुस्तक
Vedha Singh
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
DrLakshman Jha Parimal
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
2793. *पूर्णिका*
2793. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
Phool gufran
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
24-खुद के लहू से सींच के पैदा करूँ अनाज
24-खुद के लहू से सींच के पैदा करूँ अनाज
Ajay Kumar Vimal
जब भी
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
■ हार के ठेकेदार।।
■ हार के ठेकेदार।।
*Author प्रणय प्रभात*
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
गुमनाम 'बाबा'
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पल
पल
Sangeeta Beniwal
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"जगत-जननी"
Dr. Kishan tandon kranti
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...