Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

मुक्त-ग़ज़ल : पूछना तुम तीन होली में ॥

उसका मन इस बार हम बन दीन होली में ॥
दान ले लेंगे या लेंगे छीन होली में ॥
श्वेत हों या श्याम हों ; कितने भी हों बेरंग ,
करके रख देंगे उन्हे रंगीन होली में ॥
जिनको गुब्बारा फुलाने में भी हो पीड़ा ,
उनसे बजवाएंगे नचने बीन होली में ॥
उस हृदय की पीठिका में है शपथ हमको ,
होके दिखलाएंगे कल आसीन होली में ॥
हारते आए जो कल तक देखना तुम कल ,
जीत का फहराएँगे हम चीन होली में ॥
कब किसी रंगोत्सव में हम तनिक रत हों ,
पर रहें सच सर्वथा लवलीन होली में ॥
हम उन्हे रँगकर रहेंगे चाहे वो आएँ ,
सूट पहने या महज कोपीन होली में ॥
कोई प्रश्न हमसे करे चिढ़ जाते हैं हम पर ,
एक दो क्या पूछना तुम तीन होली में ॥
( चीन = झण्डा , कोपीन = लँगोट )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

2 Likes · 1 Comment · 332 Views
You may also like:
*गंगा मधुर नहान 【कुंडलिया】*
*गंगा मधुर नहान 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
यथार्थ से दूर
यथार्थ से दूर "सेवटा की गाथा"
Er.Navaneet R Shandily
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
युवाको मानसिकता (नेपाली लघुकथा)
युवाको मानसिकता (नेपाली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
Aniruddh Pandey
क्लास विच हिन्दी बोलनी चाहिदी
क्लास विच हिन्दी बोलनी चाहिदी
विनोद सिल्ला
💐अज्ञात के प्रति-98💐
💐अज्ञात के प्रति-98💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
Dr. Pratibha Mahi
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं, क्यूँकि खुशियाँ कहाँ मेरे मुक़द्दर को रास आती है।
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं,...
Manisha Manjari
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार:एक ख्वाब
प्यार:एक ख्वाब
Nishant prakhar
जानो आयी है होली
जानो आयी है होली
Satish Srijan
नींद खो दी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
भगतसिंह मरा नहीं करते
भगतसिंह मरा नहीं करते
Shekhar Chandra Mitra
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बीती जिंदगी।
बीती जिंदगी।
Taj Mohammad
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
Amit Kumar
✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️
✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हमने सच को क्यों हवा दे दी
हमने सच को क्यों हवा दे दी
Dr Rajiv
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
भीगे भीगे मौसम में
भीगे भीगे मौसम में
कवि दीपक बवेजा
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
■ चुनावी साल की सलाह
■ चुनावी साल की सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
दीपावली का उत्सव
दीपावली का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
"किसी की नज़र ना लगे"
Dr. Kishan tandon kranti
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
शिव शम्भु
शिव शम्भु
Anamika Singh
Writing Challenge- खाली (Empty)
Writing Challenge- खाली (Empty)
Sahityapedia
Loading...