Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

मुक्त-ग़ज़ल : पूछना तुम तीन होली में ॥

उसका मन इस बार हम बन दीन होली में ॥
दान ले लेंगे या लेंगे छीन होली में ॥
श्वेत हों या श्याम हों ; कितने भी हों बेरंग ,
करके रख देंगे उन्हे रंगीन होली में ॥
जिनको गुब्बारा फुलाने में भी हो पीड़ा ,
उनसे बजवाएंगे नचने बीन होली में ॥
उस हृदय की पीठिका में है शपथ हमको ,
होके दिखलाएंगे कल आसीन होली में ॥
हारते आए जो कल तक देखना तुम कल ,
जीत का फहराएँगे हम चीन होली में ॥
कब किसी रंगोत्सव में हम तनिक रत हों ,
पर रहें सच सर्वथा लवलीन होली में ॥
हम उन्हे रँगकर रहेंगे चाहे वो आएँ ,
सूट पहने या महज कोपीन होली में ॥
कोई प्रश्न हमसे करे चिढ़ जाते हैं हम पर ,
एक दो क्या पूछना तुम तीन होली में ॥
( चीन = झण्डा , कोपीन = लँगोट )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

2 Likes · 1 Comment · 469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-445💐
💐प्रेम कौतुक-445💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां शैलपुत्री
मां शैलपुत्री
Mukesh Kumar Sonkar
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
"मन बावरा"
Dr. Kishan tandon kranti
अन्तर्मन की विषम वेदना
अन्तर्मन की विषम वेदना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
bharat gehlot
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
"किसने कहा कि-
*Author प्रणय प्रभात*
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
डी. के. निवातिया
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
फायदा उठाया है उसने अपने पद का
फायदा उठाया है उसने अपने पद का
कवि दीपक बवेजा
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
*लटें जज़्बात कीं*
*लटें जज़्बात कीं*
Poonam Matia
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शुद्ध
शुद्ध
Dr.Priya Soni Khare
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...