Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2018 · 1 min read

मुक्तामणि छंद की परिभाषा व रचनाक्रम” :इंजी. अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

मुक्तामणि छंद में ही इस छंद की परिभाषा

(चार पद प्रत्येक में २५ मात्रा व १३-१२ मात्राओं पर यति, पदांत में दो गुरु या कर्णा)

चार पदों का छंद यह, सुंदर सहज सुवर्णा.

मात्रायें पच्चीस शुभ, अंत लगायें कर्णा.

तेरह बारह यति रहे, स्नेह गंग जलधारा.

रचिए ‘मुक्तामणि’ मधुर, मनभाये गुरुद्वारा..

–इं० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
बाबूजी
बाबूजी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसी भी इंसान के
किसी भी इंसान के
*Author प्रणय प्रभात*
"दिल को"
Dr. Kishan tandon kranti
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
Dr MusafiR BaithA
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💥आदमी भी जड़ की तरह 💥
💥आदमी भी जड़ की तरह 💥
Dr.Khedu Bharti
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
शेखर सिंह
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
*प्रकृति का नव-वर्ष 【घनाक्षरी】*
*प्रकृति का नव-वर्ष 【घनाक्षरी】*
Ravi Prakash
// जिंदगी दो पल की //
// जिंदगी दो पल की //
Surya Barman
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
Loading...