Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

कर्म फल

सपने ने मुझसे कहा पाने की सदा तमन्ना रख
परिश्रम हर्ष से बोला, प्राणी! मन को न अनमना रख
पुस्तक करे इशारा, देर-सवेर मिलेगा कर्म फल
दिल भी तुरंत बोल उठा सब्र का न कोरा पन्ना रख।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
287 Views
You may also like:
लगा हूँ...
Sandeep Albela
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
आज हिंदी रो रही है!
Anamika Singh
【21】 *!* क्या हम चंदन जैसे हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कलम की ताकत
Seema gupta ( bloger) Gupta
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं शर्मिंदा हूं
Shekhar Chandra Mitra
एक दीये की दीवाली
Ranjeet Kumar
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
'अशांत' शेखर
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
देह मिलन
Kavita Chouhan
दोस्ती और कर्ण
मनोज कर्ण
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
“ अच्छा लगे तो स्वीकार करो ,बुरा लगे तो नज़र...
DrLakshman Jha Parimal
"हिंदी से हिंद का रक्षण करें"
पंकज कुमार कर्ण
क्या क्या कह दिया मैंने
gurudeenverma198
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
बच्चों ने सोचा (बाल कविता)
Ravi Prakash
इसका एहसास
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
लोग आपन त सभे कहाते नू बा
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
गहरा सोचता है।
Taj Mohammad
माँ
विशाल शुक्ल
Loading...