Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

मुक्तक

दिल का वो एक कोना, अब तक पडा़ है खाली
पत्ते हैं झड़ गए सब, सूनी पडी़ है डाली
मुमकिन नहीं तुम्हारी, यादों को भूल जाना
तुम बिन है सूनी होली, सूनी ही थी दिवाली ।
By : MUKESH PANDEY

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आजादी का अमृतमहोत्सव एव गोरखपुर
आजादी का अमृतमहोत्सव एव गोरखपुर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
Dushyant Kumar
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
अश्क चिरैयाकोटी
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
कवि दीपक बवेजा
"फंदा"
Dr. Kishan tandon kranti
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
खत लिखा था पहली बार दे ना पाए कभी
खत लिखा था पहली बार दे ना पाए कभी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ welldone
■ welldone "Sheopur"
*Author प्रणय प्रभात*
मटका
मटका
Satish Srijan
कौन सोचता है
कौन सोचता है
Surinder blackpen
सपनों की दुनिया
सपनों की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*****राम नाम*****
*****राम नाम*****
Kavita Chouhan
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
2306.पूर्णिका
2306.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
Loading...