Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

साहस

उम्मीद की किरण टिमटिमाती थी टूटे सितारे में
बेचारी बन न जीना चाहती, ज़िन्दगी उधारे में
हौसलों के सोपान से चढ़ी छूने को वो आकाश
पग को ही कर बना डाला,जिंदगी जी न गुज़ारे में

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
377 Views
You may also like:
मजदूर हुआ तो क्या हुआ
gurudeenverma198
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
अक्लमंद --एक व्यंग्य
Kaur Surinder
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हेलो पापा ! हेलो पापा !
Buddha Prakash
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
पहचान के पर अपने उड़ जाना आसमाँ में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
*सुंदरकांड की विशेषताऍं : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
श्री गणेश वंदना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सरकारी नौकरी
Sushil chauhan
सब्र रख बंदे...
Seema 'Tu hai na'
ज़ब्त की जिसमें
Dr fauzia Naseem shad
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
बुंदेली दोहा:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सलाम
Dr.S.P. Gautam
वन्दना
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
■ लघुकथा / पशु कौन...?
*Author प्रणय प्रभात*
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
मुलाक़ात पहली मगर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इंडिया को इंडिया ही रहने दो
Shekhar Chandra Mitra
💐स्वभावस्य भगवतः बंधनं भवति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“BETRAYAL, CHEATING AND PERSONAL ATTACK ARE NOT THE MISTAKES TO...
DrLakshman Jha Parimal
दोहा
Dr. Sunita Singh
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अश्क़
Satish Srijan
प्यार ~ व्यापार
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...