Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2016 · 1 min read

तोल-मोल

तोल-मोल के बोल ये दुनिया गोल-मोल
हंसी उड़ाये पल में देगी पोल खोल
शब्दों पर अंकुश हो संशय हो न कोई
वाणी वचनामृत में सुधारस घोल-घोल

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 310 Views
You may also like:
गुरु कृपा
Buddha Prakash
✍️रूह-ए-इँसा✍️
'अशांत' शेखर
नामे बेवफ़ा।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
हाल मत पूछो
Shekhar Chandra Mitra
مستان میاں
Shivkumar Bilagrami
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लाड़ली दर पे आया तो फिर आ गया
Mahesh Tiwari 'Ayen'
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुरत और सिरत
Anamika Singh
जीवन साथी
जगदीश लववंशी
माँ का अनमोल प्रसाद
राकेश कुमार राठौर
*"आदिशक्ति जय माँ जगदम्बे"*
Shashi kala vyas
मंगलवत्थू छंद (रोली छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
प्यार का मंज़र .........
J_Kay Chhonkar
क्युं नहीं
Seema 'Tu hai na'
तेरी सूरत
DESH RAJ
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*सही से यदि फॅंसा फंदा, तो फिर टाले न टलता...
Ravi Prakash
वर्षा
विजय कुमार 'विजय'
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
कहते हो हमको दुश्मन
gurudeenverma198
"योग करो"
Ajit Kumar "Karn"
मारे ऊँची धाँक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...