Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

मुक्तक

शहरों के पार्क में न तो जुल्फों की छाँव में
मिलता अज़ब सुक़ून है आकर के गाँव में

लगता है कोई राग सुनाती हैं कोयलें
पाजेब जब छमकते हैं गोरी के पाँव में

प्रीतम श्रावस्तवी

Language: Hindi
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खामोस है जमीं खामोस आसमां ,
खामोस है जमीं खामोस आसमां ,
Neeraj Mishra " नीर "
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
🙅इस साल🙅
🙅इस साल🙅
*प्रणय प्रभात*
विचार और भाव-1
विचार और भाव-1
कवि रमेशराज
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
राहुल की अंतरात्मा
राहुल की अंतरात्मा
Ghanshyam Poddar
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
Pankaj Kushwaha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
Sunil Maheshwari
மழையின் சத்தத்தில்
மழையின் சத்தத்தில்
Otteri Selvakumar
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
समाज और सोच
समाज और सोच
Adha Deshwal
Loading...