Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

मुक्तक

दुर्लभ तो कुछ भी नहीं, गर मन हो विश्वास ।
पतझड़ जैसी जिंदगी, बन जाए मधुमास ।
मन के सारे खेल हैं, मन के सब संग्राम –
मरु मन में हलचल करे, सावन जैसी प्यास ।

सुशील सरना / 26-12-23

78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
"कंचे का खेल"
Dr. Kishan tandon kranti
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
मिट्टी बस मिट्टी
मिट्टी बस मिट्टी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
7. तेरी याद
7. तेरी याद
Rajeev Dutta
3021.*पूर्णिका*
3021.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जाति  धर्म  के नाम  पर, चुनने होगे  शूल ।
जाति धर्म के नाम पर, चुनने होगे शूल ।
sushil sarna
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
💐प्रेम कौतुक-384💐
💐प्रेम कौतुक-384💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
★क़त्ल ★
★क़त्ल ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
*सुख-दुख के दोहे*
*सुख-दुख के दोहे*
Ravi Prakash
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...