Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2023 · 1 min read

** मुक्तक **

** मुक्तक **
~~
बुझा दीजिए पेट की आग को अब।
करें बंद बस वोट के राग को अब।
बहुत आज आतंक है हर जगह में।
विषैले कुचल दीजिए नाग को अब।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ३०/१०/२०२३

1 Like · 1 Comment · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
पूर्वार्थ
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
एक ज़माना था .....
एक ज़माना था .....
Nitesh Shah
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
3532.🌷 *पूर्णिका*🌷
3532.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
What Is Love?
What Is Love?
Vedha Singh
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां  ,
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां ,
Neelofar Khan
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
"दीप जले"
Shashi kala vyas
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
"मोहलत"
Dr. Kishan tandon kranti
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...