Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक
””””””””””

मूल के चक्कर में,तेरा समूल नष्ट हो जायेगा।
आपसी प्रेम से ही , जन कल्याण हो पाएगा।
अगर लगे, तू ही महान है, तुझमें महाज्ञान है;
तो छोड़ दो बैशाखी,मूलनाम याद न आएगा।
__________________________________

स्वरचित सह मौलिक;
….✍️पंकज कर्ण
…कटिहार(बिहार)

Language: Hindi
1 Like · 421 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
*किसकी चिर काया रही ,चिर यौवन पहचान(कुंडलिया)*
*किसकी चिर काया रही ,चिर यौवन पहचान(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
थोड़ा सा आसमान ....
थोड़ा सा आसमान ....
sushil sarna
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
वाणी
वाणी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
नश्वर है मनुज फिर
नश्वर है मनुज फिर
Abhishek Kumar
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
زندگی کب
زندگی کب
Dr fauzia Naseem shad
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
"स्वप्न".........
Kailash singh
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
*प्रणय प्रभात*
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...