Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

मुक्तक

ज़िंदगी तब महान लगती है
जब तुम्हारी दुकान लगती है

पान खाने जो आऊँ तो तेरी
आँख ये मेज़बान लगती है

प्रीतम श्रावस्तवी

Language: Hindi
168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बोलती आंखें🙏
बोलती आंखें🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी खुशी
तेरी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*हे महादेव आप दया के सागर है मैं विनती करती हूं कि मुझे क्षम
*हे महादेव आप दया के सागर है मैं विनती करती हूं कि मुझे क्षम
Shashi kala vyas
3273.*पूर्णिका*
3273.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बल"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
एक दीप हर रोज जले....!
एक दीप हर रोज जले....!
VEDANTA PATEL
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मां की अभिलाषा
मां की अभिलाषा
RAKESH RAKESH
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
shabina. Naaz
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
भोले
भोले
manjula chauhan
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
Loading...