Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

काव्य कल्पतरु

शब्दों के जंगल में काव्य कल्पतरु की छाँव है
काव्य रस पिपासा पूर्ण करने की यह ठाँव है
यहां दुआ, प्रेरणा,उमंग, ज्ञान का है घट भरा
लेखन का जनून जहां, चिंतन मनन का गांव है।

Language: Hindi
711 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
ऐसा कभी क्या किया है किसी ने
ऐसा कभी क्या किया है किसी ने
gurudeenverma198
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
"प्यासा"मत घबराइए ,
Vijay kumar Pandey
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
दुष्यन्त 'बाबा'
2457.पूर्णिका
2457.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
जलजला
जलजला
Satish Srijan
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
गीत
गीत
Kanchan Khanna
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
कवि रमेशराज
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
स्वार्थवश या आपदा में
स्वार्थवश या आपदा में
*Author प्रणय प्रभात*
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
"जो होता वही देता"
Dr. Kishan tandon kranti
*जीवन - मृत्यु (कुंडलिया)*
*जीवन - मृत्यु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
Loading...