Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

काव्य कल्पतरु

शब्दों के जंगल में काव्य कल्पतरु की छाँव है
काव्य रस पिपासा पूर्ण करने की यह ठाँव है
यहां दुआ, प्रेरणा,उमंग, ज्ञान का है घट भरा
लेखन का जनून जहां, चिंतन मनन का गांव है।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
497 Views
You may also like:
क्या क्या कह दिया मैंने
gurudeenverma198
गुरु है महान ( गुरु पूर्णिमा पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं "रमेश चन्द्र...
Deepak Kumar Tyagi
सितारे बुलंद थे मेरे
shabina. Naaz
✍️✍️प्रेम की राह पर-67✍️✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
दोहे मेरे मन के
लक्ष्मी सिंह
समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नवगीत -
Mahendra Narayan
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
एक नायाब मौका
Aditya Prakash
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
*मुसीबत है लाइसेंस का नवीनीकरण करवाना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
The Rope Jump
Buddha Prakash
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
पिता
Shankar J aanjna
वक्त ए ज़लाल।
Taj Mohammad
संघर्ष
Sushil chauhan
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
पूर्ण विराम से प्रश्नचिन्ह तक
Saraswati Bajpai
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
रवीश कुमार
Shekhar Chandra Mitra
पत्थर दिल
Seema 'Tu hai na'
जागो।
Anil Mishra Prahari
RV Singh
Mohd Talib
ढलती जाती ज़िन्दगी
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️चीते की रफ़्तार
'अशांत' शेखर
Loading...