Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक

छलका छलका एक समन्दर आँखों में,
टूटे ख्वाबों का हर मंज़र आँखों में।
बेगानेपन से घायल दिल को करता,
एक नुकीला चुभता खंज़र आँखों में।

दीपशिखा सागर-

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
255 Views
You may also like:
नजर
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
औरतों की तालीम
Shekhar Chandra Mitra
मै वह हूँ।
Anamika Singh
बदला नहीं लेना किसीसे, बदल के हमको दिखाना है।
Uday kumar
और मैं तुमसे प्यार करता रहा जबकि
gurudeenverma198
✍️क़हर✍️
'अशांत' शेखर
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
स्वाद अच्छा है - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मैं वट हूँ
Rekha Drolia
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
नैतिक मूल्य
Saraswati Bajpai
चेहरे पर कई चेहरे ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*तीन शेर*
Ravi Prakash
मत करना।
Taj Mohammad
ख्वाबों से हकीकत
shabina. Naaz
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
कर लिया याद में
Dr fauzia Naseem shad
आँखों में आँसू लेकर सोया करते हो
Gouri tiwari
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
Dr Archana Gupta
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
#बस_एक_ही_सवाल-
*Author प्रणय प्रभात*
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐बुद्धि: कर्मानुसारिणी, विवेक: न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल की धड़कन से तुम्हारा ख़्याल...../लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मेरे भी अध्याय होंगे
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रेम की राख
Buddha Prakash
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
Loading...