Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक

छलका छलका एक समन्दर आँखों में,
टूटे ख्वाबों का हर मंज़र आँखों में।
बेगानेपन से घायल दिल को करता,
एक नुकीला चुभता खंज़र आँखों में।

दीपशिखा सागर-

Language: Hindi
329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सपने
सपने
Divya kumari
विषधर
विषधर
Rajesh
#बात_बेबात-
#बात_बेबात-
*Author प्रणय प्रभात*
2678.*पूर्णिका*
2678.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
The_dk_poetry
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
Er. Sanjay Shrivastava
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
" मैं फिर उन गलियों से गुजरने चली हूँ "
Aarti sirsat
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नारी और वर्तमान
नारी और वर्तमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
जानते हैं जो सबके बारें में
जानते हैं जो सबके बारें में
Dr fauzia Naseem shad
इतिहास और साहित्य
इतिहास और साहित्य
Buddha Prakash
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
Sudha Maurya
*कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार (गीत)*
*कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार (गीत)*
Ravi Prakash
चलना हमें होगा
चलना हमें होगा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
डी. के. निवातिया
🌺🌻सत्संगेन अंतःकरणं शुद्ध: भवति 🌻🌺
🌺🌻सत्संगेन अंतःकरणं शुद्ध: भवति 🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
Loading...