Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मुक्तक

जिस मिट्टी में जन्म लिया उस पर सम्मान नही होता।
गैरों को पूजा जाता हो अपनों का ध्यान नही होता।
पर गैरो की धरती पर तो उसको मिलता जब मान बहुत।
तो उसके उर में भी यारा फिर हिंदुस्तान नही होता।

******* मधु गौतम

116 Views
You may also like:
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
पिता
Keshi Gupta
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपराधी कौन
Manu Vashistha
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
✍️दिल ही बेईमान था✍️
"अशांत" शेखर
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
मंज़िल मौत है तो जिंदगी एक सफ़र है
Krishan Singh
प्रार्थना
Anamika Singh
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
"अशांत" शेखर
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...