Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2019 · 1 min read

मुक्तक

वक्त के दरिया मे बहते जा रहें हैं हम
जाने क्या क्या साथ लेते जा रहें हैं हम
आसमाँ पर हैं सितारे उस कदर हैं ख़्वाहिशें
हर कदम पर हाथ मलते जा रहें हैं हम

Language: Hindi
415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from jyoti jwala
View all
You may also like:
■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।
■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
बादल
बादल
Shankar suman
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
झरोखा
झरोखा
Sandeep Pande
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
Ravi Prakash
फूल सी तुम हो
फूल सी तुम हो
Bodhisatva kastooriya
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
यह कब जान पाता है एक फूल,
यह कब जान पाता है एक फूल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
Paras Nath Jha
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
चालवाजी से तो अच्छा है
चालवाजी से तो अच्छा है
Satish Srijan
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
छल प्रपंच का जाल
छल प्रपंच का जाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहियो तऽ भेटब(भगवती गीत)
कहियो तऽ भेटब(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाबा साहब की अंतरात्मा
बाबा साहब की अंतरात्मा
जय लगन कुमार हैप्पी
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
सुबह की आहटें
सुबह की आहटें
Ranjana Verma
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
Harminder Kaur
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
2789. *पूर्णिका*
2789. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
Loading...