Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2019 · 1 min read

मुक्तक

ज़िन्दगानी के भी कैसे-कैसे मंज़र हो गए,
खुशियों से तो अब हमारे दर्द बेहतर हो गए,
एक क़तरे भर की आँखों में थी जिनकी हैसियत,
अश्क पलकों से निकलते वो समन्दर हो गए,

Language: Hindi
1 Like · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
Sanjay ' शून्य'
माँ तेरे आँचल तले...
माँ तेरे आँचल तले...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
Ravi Prakash
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Kishan tandon kranti
*दया*
*दया*
Dushyant Kumar
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*कुल मिलाकर आदमी मजदूर है*
*कुल मिलाकर आदमी मजदूर है*
sudhir kumar
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काजल की महीन रेखा
काजल की महीन रेखा
Awadhesh Singh
■ निर्णय आपका...
■ निर्णय आपका...
*प्रणय प्रभात*
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
ला-फ़ानी
ला-फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बदला लेने से बेहतर है
बदला लेने से बेहतर है
शेखर सिंह
Loading...