Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मुक्तक

अम्बर को चूमे है बेटी

ग़म में भी झूमे है बेटी

घर के सूने से आँगन में

बन पुरवा घूमे है बेटी

190 Views
You may also like:
होली का संदेश
Anamika Singh
सुरज दादा
Anamika Singh
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
"अशांत" शेखर
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
✍️वो मील का पत्थर....!
"अशांत" शेखर
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
नमन!
Shriyansh Gupta
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
✍️सियासत✍️
"अशांत" शेखर
प्यार करके।
Taj Mohammad
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
Loading...