Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2016 · 1 min read

मुक्तक

अम्बर को चूमे है बेटी

ग़म में भी झूमे है बेटी

घर के सूने से आँगन में

बन पुरवा घूमे है बेटी

Language: Hindi
441 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
Shyam Sundar Subramanian
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
बोर्ड परीक्षा में सुधार के उपाय
Ravi Prakash
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये रंगो सा घुल मिल जाना,वो खुशियों भरा इजहार कर जाना ,फिजाओं
ये रंगो सा घुल मिल जाना,वो खुशियों भरा इजहार कर जाना ,फिजाओं
Shashi kala vyas
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
#लघुकथा / कॉलेज का आख़िरी दिन
#लघुकथा / कॉलेज का आख़िरी दिन
*Author प्रणय प्रभात*
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
Unki julfo ki ghata bhi  shadid takat rakhti h
Unki julfo ki ghata bhi shadid takat rakhti h
Sakshi Tripathi
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
बेटियां बोझ नहीं होती
बेटियां बोझ नहीं होती
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
Shekhar Chandra Mitra
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Loading...