Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक :– बाँट लेंगे आधा-आधा हर ग़म हर तकलीफों को !!

मुक्तक :– बाँट लेंगे आधा-आधा हर ग़म हर तकलीफों को !!
अनुज तिवारी “इंदवार”

खुशियों को रोशन करेंगे जला के दिल के दीपों को !
मधुर सुहाना स्वर देंगे अपनी जीवन गीतों को !
इत्तफाक से कोई अड़चन और मुसीबत आए ,
बाट लेंगे आधा-आधा हर ग़म हर तकलीफों को !!

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
412 Views
You may also like:
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
आईना ज़िंदगी नहीं रहती
Dr fauzia Naseem shad
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपने
Shivam Pandey
【21】 *!* क्या हम चंदन जैसे हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
हम पत्थर है
Umender kumar
यादें
Anamika Singh
पिता पराए हो गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
✍️झूठा सच✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पावस
लक्ष्मी सिंह
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुन री पवन।
Taj Mohammad
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
# मां ...
Chinta netam " मन "
कबीर की आवाज़
Shekhar Chandra Mitra
भाई - बहिन का त्यौहार है भाईदूज
gurudeenverma198
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
" REAL APPLICATION OF PUNCTUALITY "
DrLakshman Jha Parimal
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Sahityapedia
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
*पायल बिछुआ टीका नथनी, कुंडल चूड़ी हार (हिंदी गजल/ गीतिका...
Ravi Prakash
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...