Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक :– बाँट लेंगे आधा-आधा हर ग़म हर तकलीफों को !!

मुक्तक :– बाँट लेंगे आधा-आधा हर ग़म हर तकलीफों को !!
अनुज तिवारी “इंदवार”

खुशियों को रोशन करेंगे जला के दिल के दीपों को !
मधुर सुहाना स्वर देंगे अपनी जीवन गीतों को !
इत्तफाक से कोई अड़चन और मुसीबत आए ,
बाट लेंगे आधा-आधा हर ग़म हर तकलीफों को !!

Language: Hindi
1 Like · 476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
मनुख
मनुख
श्रीहर्ष आचार्य
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ हो अक्षय तृतीया सभी को, मंगल सबका हो जाए
शुभ हो अक्षय तृतीया सभी को, मंगल सबका हो जाए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
💐प्रेम कौतुक-288💐
💐प्रेम कौतुक-288💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आदमखोर बना जहाँ,
आदमखोर बना जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
Dr MusafiR BaithA
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
*जब नशा साँसों में घुलता, मस्त मादक चाल है (मुक्तक)*
*जब नशा साँसों में घुलता, मस्त मादक चाल है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
shabina. Naaz
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
बेशर्मी
बेशर्मी
Sanjay ' शून्य'
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
ये पीढ कैसी ;
ये पीढ कैसी ;
Dr.Pratibha Prakash
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...