Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2016 · 1 min read

मुक्तक :– ज्यामिति विद इंसानियत

मुक्तक :– ज्यामिति विथ इंसानियत

अधिककोण जैसे अकड़ोगे तो उल्टा गिर जाओगे !
न्यूनकोण से झुकने में आखिर कब तक शर्मओगे !
उल्टा-सीधा होने पर समकोण समझ में आयेगा ,
दृष्टिकोण से नज़र हटी तो जीवन भर पछताओगे !!

एक बिंदु में स्थिर हो कर जब तुम ध्यान लगाओगे !
मंजिल के रस्ते अक्सर सीधी रेखा में पाओगे !
त्रिकोण नहीँ चौकोण नहीँ जो कोने तक ही सीमित हो ,
बनना है तो वृत्त बनो तुम हरदम पूजे जाओगे !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 6 Comments · 1473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
Anil "Aadarsh"
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
अपने-अपने राम
अपने-अपने राम
Shekhar Chandra Mitra
💐अज्ञात के प्रति-16💐
💐अज्ञात के प्रति-16💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
Surinder blackpen
मैं अकेला
मैं अकेला
AMRESH KUMAR VERMA
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Download Class 10 Science lab manual with reading - Paramhimalaya
Download Class 10 Science lab manual with reading - Paramhimalaya
Param Himalaya
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
नींद आए तो सोना नहीं है
नींद आए तो सोना नहीं है
कवि दीपक बवेजा
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
2953.*पूर्णिका*
2953.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज समझी है ज़िंदगी हमने
आज समझी है ज़िंदगी हमने
Dr fauzia Naseem shad
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
Loading...