Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2016 · 1 min read

मुक्तक :– ज्यामिति विद इंसानियत

मुक्तक :– ज्यामिति विथ इंसानियत

अधिककोण जैसे अकड़ोगे तो उल्टा गिर जाओगे !
न्यूनकोण से झुकने में आखिर कब तक शर्मओगे !
उल्टा-सीधा होने पर समकोण समझ में आयेगा ,
दृष्टिकोण से नज़र हटी तो जीवन भर पछताओगे !!

एक बिंदु में स्थिर हो कर जब तुम ध्यान लगाओगे !
मंजिल के रस्ते अक्सर सीधी रेखा में पाओगे !
त्रिकोण नहीँ चौकोण नहीँ जो कोने तक ही सीमित हो ,
बनना है तो वृत्त बनो तुम हरदम पूजे जाओगे !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 6 Comments · 1269 Views
You may also like:
सुकून के धागे ...
Seema 'Tu hai na'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
नफरत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अध्यापक दिवस
Satpallm1978 Chauhan
आने वाली नस्लों को बस यही बता देना।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️ताकत और डर✍️
'अशांत' शेखर
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों...
Manisha Manjari
करीब आने नहीं देता
कवि दीपक बवेजा
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सोच की निर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
दिल भटका मुसाफिर है।
Taj Mohammad
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
‘वसुधैव कुटुम्बकम’ विश्व एक परिवार
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कब आओगे
dks.lhp
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
माँ का अनमोल प्रसाद
राकेश कुमार राठौर
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
हाँ, उनका स्थान तो
gurudeenverma198
Loading...