Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

मुकद्दर से ज्यादा

मुकद्दर से ज्यादा मिला*

यादों के झरनों में यूँ ही बहकता रहा।
बेमतलब आईने में यूँ ही सँवरता रहा।।

बादलों की ओट में छिपे चाँद की तरह।
मैं जमाने के सामने यूँ ही गुजरता रहा।।

आस पास ही सही तुम मेरे करीब लगती हो।
ये सोच कर वक़्त का पहिया यूँ ही लुढ़कता रहा।।

कौन जहमत उठाए बेफिजूल में यहाँ।
ये सोचकर पुराने समान को यूँ ही बदलता रहा।।

ढल जाता है दिन भी शाम आने पर राजेश।
मुक्कदर से ज्यादा मिला मुझे यूँ ही समझता रहा।।

-डॉ. राजेश पुरोहित

Language: Hindi
1 Like · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*दिल से*
*दिल से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
हर एक शख्स से ना गिला किया जाए
हर एक शख्स से ना गिला किया जाए
कवि दीपक बवेजा
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
Jogendar singh
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
"आम्रपाली"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
Vindhya Prakash Mishra
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
हमें
हमें
sushil sarna
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
Paras Nath Jha
2901.*पूर्णिका*
2901.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
Loading...