Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2018 · 3 min read

पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)

व्यंग्य कहानी
————
-: पड़ोसन की ‘मी टू’ :-
आजकल ‘मी टू’ का कहर किसी सुनामी से कम नहीं, जिसने हमारे जैसे किसी भी बेहद ही शरीफ और संवेदनशील मर्द के बच्चे को, जिसने कभी धोखे से भी स्कूल, कॉलेज या ऑफिस के दिनों में या अपने पास-पड़ोस या रास्ते में आते-जाते किसी खूब/कम सूरत/सीन बला/अबला को छू लिया हो, या घूर कर देख लिया हो, उनकी नींद हराम कर रखा है।
अब तो हमारे जैसे भले लोग बहुत ही एलर्ट हो गए हैं। हम तो अपना वर्तमान और भविष्य दोनों ही सुरक्षित करने का प्रण ले चुके हैं, परंतु इतिहास का क्या करें ? वह है कि हमारा पीछा ही नहीं छोड़ रहा है। आलम यह है कि रात को कई बार हड़बड़ाकर उठ बैठते हैं; परंतु बगल में खर्राटे भर रही श्रीमती जी को देखकर तसल्ली होती है कि हमारी वह शराफत अभी तक कायम है, जिसके कपोल कल्पित दर्जनों कहानियाँ सुनाकर उससे डेढ़ दशक का साथ निभवा चुके हैं।
पिछले कुछ दिनों में जब कई छोटे-बड़े नेता, अभिनेता, कवि, लेखक, व्यापारी पर ‘मी टू’ का अटैक होने लगा, तो हमारा भी ब्लड-प्रेशर बढ़ना स्वाभाविक था। आफ्टरआल हम भी उतने शरीफ तो हैं नहीं, जितना कि दिखते हैं।
बहुत सोच-विचार कर एक शाम हमने अपनी धर्म-पत्नी जी से इस संबंध में पूछ ही लिया, “डार्लिंग, मान लो कल के दिन कोई भी महिला यदि मुझ पर मी टू का आरोप लगाती है, तुम क्या करोगी ?”
वह हँसते हुए बोली, ”मी टू’ और आप। सकल देखी है अपनी। लल्लू कहीं के…”
“देखो डार्लिंग मैं सीरीयसली पूछ रहा हूँ। आजकल जैसा माहौल चल रहा है, कोई भी कुछ भी आरोप लगा सकता है।”
“अव्वल तो ऐसा कुछ होगा नहीं। और यदि होगा भी, तो मैं हमेशा आपके साथ खड़ी रहूँगी। शादी की है मैंने आपसे। सात जन्मों का बंधन है हमारा। यूँ ही थोड़े न साथ छोड़ दूँगी।” उसने आश्वस्त किया।
कसम से, सीना छप्पन तो क्या, एक सौ बारह इंच चौड़ा हो गया। सीने से लगा लिया उसे। बातों ही बात में कब नींद की आगोश में आ गए, पता ही नहीं चला।
सुबह हमारी खूबसूरत पड़ोसन मिसेस रॉय की ‘मी टू’, ‘मी टू’ और श्रीमती जी की रोने-धोने की आवाज से नींद टूट गई। पहले तो लगा सपना है, पर नहीं इस बार सच सामने था। हमेशा की तरह खर्राटे भरने वाली हमारी अर्धांगिनी छाती पीट-पीट कर “हाय मैं लुट गई, बरबाद हो गई”, “मुझे तो पहले ही डाउट था”, “तभी मैं कहूँ कि पड़ोसी के बच्चे मेरे बच्चों जैसे क्यों दिखते हैं” “इसीलिए कल मीठी मीठी बातें कर रहे थे।” और भी ना जाने क्या-क्या ?
“चुप कर, कुछ भी बके जा रही है। शरम कर, बगल वाले कमरे में बच्चे सो रहे हैं।” मैंने उन्हें चुप कराने की कोशिश की।
“क्यों चुप रहूँ मैं ? अब तक चुप रही मैं, अब और नहीं।” श्रीमती जी उग्र रूप धारण करने लगी थीं। मैंने किसी तरह उसे बाथरूम में बंद किया और दरवाजा खोलने का निश्चय किया।
इस बार मैं निश्चिन्त था क्योंकि मैंने कभी भी मिसेस रॉय, जो कि कॉलोनी की सबसे खूबसूरत महिलाओं में से एक हैं, जिनकी ख़ूबसूरती देखकर मेरे जैसे बेहद ही शरीफ और संवेदनशील इंसानों का कलेजा मुंह को आ जाता है। वैसे मैंने उनसे जन्मदिन, नववर्ष, दिवाली, दशहरा, क्रिसमस जैसे तीज-त्योहारों पर बधाई और शुभकामनाएँ देते समय हाथ मिलाने के अलावा और किसी भी प्रकार से किस्मत नहीं आजमाया था। कारण यह कि मुझे अपनी सकल और औकात दोनों का अहसास है।
खैर, मैंने हिम्मत करके दरवाजा खोल दिया। नाईट शूट में उन्हें बदहवास हालत में देखकर मेरा बी.पी. बढ़ना स्वाभाविक था।
दरवाजा खुलते ही उन्होंने कहा, “शर्मा जी, हमारा पालतू तोता उड़कर आपकी बालकनी में पहुँच गया है। प्लीज आप उसे ला देंगे क्या ? अभी वहाँ से ‘मीठू-मीठू’ की आवाज आ रही है।”
“हाँ-हाँ क्यों नहीं, अभी लाया।” मेरी खुशी का ठिकाना न था। आरोप-मुक्त ही नहीं हुआ था पत्नी के सामने हमारी शराफत और दूध का धुले होने का एक और प्रमाण भी मिल गया था।
पर इन सबसे ज्यादा खुशी कि बात ये थी कि अब तोते को पकड़कर सुबह-सुबह मिसेस रॉय की सुकोमल हाथों में सौंपने का स्पर्श सुख भी मिल रहा था। मेरा तो दिन बन गया था।
————————
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आरुणि की गुरुभक्ति
आरुणि की गुरुभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
Er. Sanjay Shrivastava
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
जो बेटी गर्भ में सोई...
जो बेटी गर्भ में सोई...
आकाश महेशपुरी
“यादों के झरोखे से”
“यादों के झरोखे से”
पंकज कुमार कर्ण
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
Amit Pandey
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
"पंजे से पंजा लड़ाए बैठे
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राधा कृष्ण होली भजन
राधा कृष्ण होली भजन
Khaimsingh Saini
कविता
कविता
Rambali Mishra
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
चाँद
चाँद
ओंकार मिश्र
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...