Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2022 · 2 min read

मी टू (लघुकथा)

मी टू (लघुकथा)
____________
जिठनिया ने अपनी साड़ी का पल्लू कमर में खोंसा और अखबार के दफ्तर में संपादक के कमरे में धड़ाधड़ अंदर चली गई। संपादक हैरान था। जिठनिया उससे बोली-” मी टू ! मी टू ! ”
संपादक की कुछ समझ में नहीं आया। -“क्या कहना चाहती हो ? साफ-साफ बताओ, बात क्या है”।
जिठनिया ने आंखों को नचाते हुए कहा-” बड़े भोले बन रहे हो ! रोजाना तो अखबार और टीवी पर मी टू की बातें हो रही हैं । मैं भी आठवीं पास हूं । सब जानती हूं ।”
संपादक ने थोड़ा नर्म होकर पूछा-” क्या बात है बताओ ”
“वेटर का काम करती हूं ।वहीं पर छोटू है। वह भी मेरी तरह है । हर समय गंदी निगाहों से मुझे घूरता रहता है । जब भी मौका मिलता है, छूने की कोशिश करता है। मैं उसके खिलाफ आपके पास आई हूं ।”
संपादक थोड़ा मुस्कुराया और बोला “तुमने रेस्टोरेंट के मालिक से शिकायत नहीं की?”
” जी की थी ..”-जिठनिया ने तेजी के साथ कहा”- लेकिन उसने कहा कि तेरे साथ कोई बलात्कार थोड़ी कर लिया है जो उसे नौकरी से निकाल दूं ?”
फिर मैं थानेदार के पास गई लेकिन वह तो उससे भी ज्यादा गंदी निगाहों से मुझे देख रहा था। दो मिनट भी रुके बिना मुझे वहां से वापस आना पड़ा। पूछ रहा था -“कहां कहां छुआ है ? ”
बदतमीज कहीं का !
संपादक बोला” मी टू में मैं तुम्हारे लिए कोई मदद नहीं कर सकता। ”
जिठनिया का चेहरा मुरझा गया। बोली” क्यों ? आप तो सब जगह यही चला रहे हैं”
संपादक बोला -” ना तो तुम कोई मशहूर हस्ती हो और ना जिसके खिलाफ तुम आरोप लगा रही हो वह कोई मशहूर व्यक्ति है। साधारण लोगों के लिए मी टू नहीं है ”
सिर झुका कर आंख में आंसू ला कर जिठनिया बोली ” फिर मैं कहॉं जाऊॅं ?”
संपादक बोला” मुझे कुछ नहीं पता”
—————————————–
लेखक रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
1 Like · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रखो अपेक्षा ये सदा,  लक्ष्य पूर्ण हो जाय
रखो अपेक्षा ये सदा, लक्ष्य पूर्ण हो जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*लक्ष्मण-रेखा (कुंडलिया)*
*लक्ष्मण-रेखा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी में
Santosh Shrivastava
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"माफ करके"
Dr. Kishan tandon kranti
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
Sahil Ahmad
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
दिकपाल छंदा धारित गीत
दिकपाल छंदा धारित गीत
Sushila joshi
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
Shweta Soni
यह कलयुग है
यह कलयुग है
gurudeenverma198
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
सुनो...
सुनो...
हिमांशु Kulshrestha
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुंती कान्हा से कहा,
कुंती कान्हा से कहा,
Satish Srijan
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
उलझनें रूकती नहीं,
उलझनें रूकती नहीं,
Sunil Maheshwari
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
manjula chauhan
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
Loading...