Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

मीठी-मीठी माँ / (नवगीत)

घी-शक्कर के
कट्टू जैसी
मीठी-मीठी माँ ।

पौ फटने के
पहले उठती,
चूल्हे पर
रोटी-सी सिकती ।

मैले बासन पर
कूची-सी
घिसती-घिसती माँ ।

मुन्ना-मुन्नी को
नहलाती,
बड़े चाव से
टिफिन लगाती ।

पापड़ की
कोमलता जैसी
तीखी-तीखी माँ ।

भीतर रोती
बाहर हँसती,
फूलों-सी
काँटों में खिलती ।

सिलबट्टे पर
चटनी जैसी
घिसती-घिसती माँ ।

उलझी बातों
को सुलझाती,
रोज़ प्यार का
दीप जलाती ।

संन्यासी के
जीवन जैसी
सुलझी-सुलझी माँ ।

घी-शक्कर के
कट्टू जैसी
मीठी-मीठी माँ ।
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।
मो.- 8463884927

Language: Hindi
Tag: गीत
4 Likes · 4 Comments · 332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
Manisha Manjari
मोबाइल महिमा
मोबाइल महिमा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
"बोलते अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
कवि दीपक बवेजा
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ममता
ममता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खेत रोता है
खेत रोता है
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दोहे- माँ है सकल जहान
दोहे- माँ है सकल जहान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
Kshma Urmila
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...