Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 26, 2022 · 1 min read

मिसाल (कविता)

खेल रही हूँ जिंदगी का खेल,
जानते हुए भी; कि –
जीत अनिश्चित है और,
हार खड़ी रहती है मुँह बायें,
देखकर मुस्कुराती है,
उपहास करती प्रतीत होती है,
खेल कहाँ तक खेल सकती है ?
मैं भी मुस्कुरा देती हूँ,
चालें चली जा रही हैं,
खेल चल रहा है,
मेरे और जिंदगी के बीच,
दोनों अपनी – अपनी जगह डटे हैं,
कोशिशें जारी हैं उसकी – मेरी,
बार – बार, लगातार,
उसकी कोशिश हराने की,
मेरी कोशिश हार न मानने की,
खिलाड़ी हिम्मतवाले हैं,
खेल रोमांचक दौर में है,
देखते हैं, क्या फैसला रहता है,
सृष्टिकर्ता का …. …. ?????
और…. सुना है; जहाँ वो स्वयं है,
वहाँ हार नहीं होती कभी किसी की,
होती है बस जीत, बनती है मिसाल ।।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, कोठीवाल नगर,
मुरादाबाद (उ०प्र०, भारत)
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)
ता० :- ११/०३/२०२१.

141 Views
You may also like:
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐भगवतः स्मृति: च सेवा च महत्ववान्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️मोहब्बत की राह✍️
'अशांत' शेखर
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
Love Heart
Buddha Prakash
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
*आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
इंसान
Annu Gurjar
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
'अशांत' शेखर
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
# मां ...
Chinta netam " मन "
.✍️कबीर-मुर्शिद मेरा✍️
'अशांत' शेखर
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कब मेरी सुधी लोगे रघुराई
Anamika Singh
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
जानता है
Dr fauzia Naseem shad
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
Loading...