Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2022 · 1 min read

मिसाल (कविता)

खेल रही हूँ जिंदगी का खेल,
जानते हुए भी; कि –
जीत अनिश्चित है और,
हार खड़ी रहती है मुँह बायें,
देखकर मुस्कुराती है,
उपहास करती प्रतीत होती है,
खेल कहाँ तक खेल सकती है ?
मैं भी मुस्कुरा देती हूँ,
चालें चली जा रही हैं,
खेल चल रहा है,
मेरे और जिंदगी के बीच,
दोनों अपनी – अपनी जगह डटे हैं,
कोशिशें जारी हैं उसकी – मेरी,
बार – बार, लगातार,
उसकी कोशिश हराने की,
मेरी कोशिश हार न मानने की,
खिलाड़ी हिम्मतवाले हैं,
खेल रोमांचक दौर में है,
देखते हैं, क्या फैसला रहता है,
सृष्टिकर्ता का …. …. ?????
और…. सुना है; जहाँ वो स्वयं है,
वहाँ हार नहीं होती कभी किसी की,
होती है बस जीत, बनती है मिसाल ।।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद (उ०प्र०, भारत)
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)
ता० :- ११/०३/२०२१.

Language: Hindi
400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
#कैसी_कही
#कैसी_कही
*प्रणय प्रभात*
Value the person before they become a memory.
Value the person before they become a memory.
पूर्वार्थ
भोलेनाथ
भोलेनाथ
Adha Deshwal
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
अर्ज किया है जनाब
अर्ज किया है जनाब
शेखर सिंह
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"शहनाई की गूंज"
Dr. Kishan tandon kranti
2904.*पूर्णिका*
2904.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
Upon the Himalayan peaks
Upon the Himalayan peaks
Monika Arora
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
" जिन्दगी क्या है "
Pushpraj Anant
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
Rituraj shivem verma
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
Loading...