Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।

मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
हृदय में नेह से परिपूर्ण सरिता सूख जाती है ।
दरस की आस ले गुजरी गली में सांझ नित लेकिन –
जरा सी बात पर “अरविन्द” नलिनी रूठ जाती है ।।

✍️अरविन्द त्रिवेदी
उन्नाव उ० प्र०

330 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*
*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*
Ravi Prakash
#यादों_का_झरोखा
#यादों_का_झरोखा
*Author प्रणय प्रभात*
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
Kr. Praval Pratap Singh Rana
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
*कैसे  बताएँ  कैसे जताएँ*
*कैसे बताएँ कैसे जताएँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रीत की चादर
प्रीत की चादर
Dr.Pratibha Prakash
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
पूर्वार्थ
फितरत
फितरत
Mamta Rani
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
💐अज्ञात के प्रति-80💐
💐अज्ञात के प्रति-80💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...