Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

मिली सफलता

मिली सफलता जीवन में आखिर,
मात-पिता की सेवा का प्रतिफल,
उच्च माध्यमिक शिक्षक के पद पर
मेधा सूची में आया अव्वल,

बड़े ओहदों पर भाई सब मेरे,
सुख-सुविधा की बहती दरिया,
जब भी जाते मात-पिताजी,
रास न आता ‘सोने का पिंजरा’,

रहते थे दोनों ग्राम-भवन में,
हंँसी-खुशी उन्मुक्त पवन में,
आस-पड़ोस अपना-सा लगता,
बूढ़ों-बच्चों संग खूब मगन में,

भाई-बहनों में सबसे मैं छोटा,
सबका नयनों का मैं तारा,
सेवा का दायित्व मिला तब,
दिल्ली से वापस मैं आया,

जीवन-यापन का कठिन रूप देख,
थोड़ा-थोड़ा मैं घबड़ाता था,
पर मजबूत पृष्ठभूमि वश,
अपने को मैं समझाता था,

नौकरी, राजनीति तो कभी व्यापार में,
मैंने अपनी किस्मत को आजमाया,
जीवन के सत्य दर्शन पाकर,
अपनी अभिरुचि को पहचान पाया,

बच्चों की पाठशाला खोलकर,
शिक्षा क्षेत्र में कदम रखा,
अंततः सरकारी शिक्षक बनकर
आत्म संतुष्टि का वरण किया।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 10 Comments · 243 Views
You may also like:
माँ धनलक्ष्मी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बर्फी रसगुल्ला - एक लव स्टोरी(हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
Dear Mango...!!
Kanchan Khanna
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
भ्रष्टाचार पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
अनूठी दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
खंड: 1
Rambali Mishra
वक़्त से
Dr fauzia Naseem shad
✍️कलम और चमच✍️
'अशांत' शेखर
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन...
DrLakshman Jha Parimal
नया साल
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
यह मकर संक्रांति
gurudeenverma198
“" हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार” "
Dr Meenu Poonia
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
लड़खड़ाने से न डर
Satish Srijan
चाहत
जय लगन कुमार हैप्पी
खुद के वजूद को।
Taj Mohammad
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो...
Manisha Manjari
★ संस्मरण / गट-गट-गट-गट कोका-कोला 😊
*Author प्रणय प्रभात*
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
" मुस्कराना सीख लो "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
हो नये इस वर्ष
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मकर संक्रांति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
☀️✳️मैं अकेला ही रहूँगा,तुम न आना,तुम न आना✳️☀️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रतिस्पर्धा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
मानव मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
Shekhar Chandra Mitra
Loading...