Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

मिली सफलता

मिली सफलता जीवन में आखिर,
मात-पिता की सेवा का प्रतिफल,
उच्च माध्यमिक शिक्षक के पद पर
मेधा सूची में आया अव्वल,

बड़े ओहदों पर भाई सब मेरे,
सुख-सुविधा की बहती दरिया,
जब भी जाते मात-पिताजी,
रास न आता ‘सोने का पिंजरा’,

रहते थे दोनों ग्राम-भवन में,
हंँसी-खुशी उन्मुक्त पवन में,
आस-पड़ोस अपना-सा लगता,
बूढ़ों-बच्चों संग खूब मगन में,

भाई-बहनों में सबसे मैं छोटा,
सबका नयनों का मैं तारा,
सेवा का दायित्व मिला तब,
दिल्ली से वापस मैं आया,

जीवन-यापन का कठिन रूप देख,
थोड़ा-थोड़ा मैं घबड़ाता था,
पर मजबूत पृष्ठभूमि वश,
अपने को मैं समझाता था,

नौकरी, राजनीति तो कभी व्यापार में,
मैंने अपनी किस्मत को आजमाया,
जीवन के सत्य दर्शन पाकर,
अपनी अभिरुचि को पहचान पाया,

बच्चों की पाठशाला खोलकर,
शिक्षा क्षेत्र में कदम रखा,
अंततः सरकारी शिक्षक बनकर
आत्म संतुष्टि का वरण किया।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
7 Likes · 10 Comments · 455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
मुझे तरक्की की तरफ मुड़ने दो,
मुझे तरक्की की तरफ मुड़ने दो,
Satish Srijan
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
#तन्ज़िया_शेर...
#तन्ज़िया_शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
Amit Pandey
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
अधीर मन
अधीर मन
manisha
.
.
Ms.Ankit Halke jha
*विभीषण (कुंडलिया)*
*विभीषण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
2868.*पूर्णिका*
2868.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
Surinder blackpen
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
Harminder Kaur
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
Loading...