Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

मिलन

साहित्यपीडिया पर मेरे मिलन का एहसास, मेरी पहली रचना जो १९६५ के आस पास लिखी गई थी

‘मिलन’ का मिलन
मुबारक हो तुझे
मैं जो मिलूँ तो एक
‘मिलन’ मिले तुझे

मिलन ही मिलन है
मुक़द्दर में तेरे
हर मोड पर ही
‘मिलन’ का मिलन मिले तुझे !

ज़मीं है ‘मिलन’
आसमान है ‘मिलन’
प्रेम की चरम
सीमा है मिलन

मिलन ही मिलन है
हर दिल में बसा
रब की परम
लीला है मिलन !!

‘मिलन’ की निगाहें
मिलन मांगतीं हैं
‘मिलन’ से मिलन की
दुआ मांगतीं हैं

मिलन ही मिलन है
जब ‘मिलन’ से मिलन हो
जुदाई भी ‘मिलन’ से
मिलन मांगती है !!!

Language: Hindi
429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
Anil chobisa
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
बात तो कद्र करने की है
बात तो कद्र करने की है
Surinder blackpen
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
2983.*पूर्णिका*
2983.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
Shyam Pandey
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ms.Ankit Halke jha
पुलिस की ट्रेनिंग
पुलिस की ट्रेनिंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
पूर्वार्थ
होगा कौन वहाँ कल को
होगा कौन वहाँ कल को
gurudeenverma198
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
Loading...