Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले

मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मसला ये है की हमे कोई अच्छा नही लगता।
– ललित

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
Ranjeet kumar patre
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
Ek din ap ke pas har ek
Ek din ap ke pas har ek
Vandana maurya
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
लौट कर फिर से
लौट कर फिर से
Dr fauzia Naseem shad
व्यथा
व्यथा
Kavita Chouhan
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
ग़ैरत ही होती तो
ग़ैरत ही होती तो
*Author प्रणय प्रभात*
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
1
1
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
जीवन भर मर मर जोड़ा
जीवन भर मर मर जोड़ा
Dheerja Sharma
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
कुछ नही मिलता आसानी से,
कुछ नही मिलता आसानी से,
manjula chauhan
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
Dr Manju Saini
Loading...