Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2016 · 1 min read

मियाँ सब कुछ गवारा हो रहा है

मियाँ सब कुछ गवारा हो रहा है
बहुत कम मैं गुज़ारा हो रहा है

बिछडने के इशारे हो रहे हैं
ताल्लुक मैं ख़सारा हो रहा है

– नासिर राव

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
Subhash Singhai
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
■ जयंती पर नमन्
■ जयंती पर नमन्
*Author प्रणय प्रभात*
क्या ग़लत मैंने किया
क्या ग़लत मैंने किया
Surinder blackpen
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
" बिछड़े हुए प्यार की कहानी"
Pushpraj Anant
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
Shekhar Chandra Mitra
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
पंथ (कुंडलिया)
पंथ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"कश्मकश"
Dr. Kishan tandon kranti
सच है, दुनिया हंसती है
सच है, दुनिया हंसती है
Saraswati Bajpai
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
'अशांत' शेखर
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
Loading...