Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल

मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द लिखे ,तो फिर मित्र बने रहना अभिशाप है @परिमल

529 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
Activities for Environmental Protection
Activities for Environmental Protection
अमित कुमार
मां
मां
Dr.Priya Soni Khare
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2393.पूर्णिका
2393.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
हो गया
हो गया
sushil sarna
"प्रेम"
शेखर सिंह
अधूरी हसरतें
अधूरी हसरतें
Surinder blackpen
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
Dr Arun Kumar shastri  एक अबोध बालक 🩷😰
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक 🩷😰
DR ARUN KUMAR SHASTRI
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
* मंजिल आ जाती है पास *
* मंजिल आ जाती है पास *
surenderpal vaidya
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ
माँ
Vijay kumar Pandey
"स्वस्फूर्त होकर"
Dr. Kishan tandon kranti
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
Rj Anand Prajapati
🙅दस्तूर दुनिया का🙅
🙅दस्तूर दुनिया का🙅
*प्रणय प्रभात*
*हमें कर्तव्य के पथ पर, बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*हमें कर्तव्य के पथ पर, बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
कविता
कविता
Rambali Mishra
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
Loading...