Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 2 min read

डोला कड़वा –

डोला कड़वा –

नंदू बचपन से गांव कि महिला पनवा के विषय मे सुनता आया डोला कड़वा नंदू कि समझ मे यह नही आता की टोला कड़वा पनवा को गांव वाले क्यो कहते है ?

जब नंदू को कुछ समझ हुई तब उसने अपने बाबा से डोला कड़वा का मतलब पूछा और यह भी पूछा कि पनवा को पूरा गांव डोला कड़वा क्यो कहता है ?

नंदू के बाबा ने बताया की सामान्यतः विवाह में वर पक्ष यानी लडके वाले धूम धाम से बरात लेकर कन्या पक्ष के यहाँ जाते है और विवाह विधि विधान से होता है लेकिन गरीब और लाचार मजबूर परिवार के लोग किसी पैसे या साधन सम्पन्न वर पक्ष या लड़के वालों के यहां लड़की लेकर जाते है और विवाह सम्पन्न होने के बाद लड़की छोड़ कर चले आते है ऐसे विवाह को डोला कड़वा कहते है ।

यह प्रथा मुगलों कि गुलामी के दौर से शुरू हुई जब जमींदार रसूख वाले लोग पसंद कि लड़की के घर वालो को बुलाते और विवाह का जामा पहना रखैल के रूप में रखते ।

पनवा भी उसी परम्परा कि वर्तमान है नंदू के बाबा ने बताया कि पनवा अपनी बड़ी बहन सुमुखि के डोला कड़वा विवाह में अपने परिवार के साथ आई थी विवाह में औपचारिकता के बीच गांव के प्रधान दुर्जन सिंह कि निगाह पनवा पर पड़ी उन्होंने सुमुखि के विवाह के बाद उसके परिजन को बुलावाया और पनवा को अपने घर पर घरेलू कार्य हेतु रखने हेतु दबाव बनाया पनवा के घर वालो कि क्या मजाल कि वह दुर्जन सिंह कि बात टाल सके सो सुमुखि को उसके पति के घर एव पनवा को दुर्जन सिंह के घर छोड़ कर चले गए ।

जब तक पनवा में आकर्षण था तब तक वह दुर्जन सिंह के घर दासी या यूं कहें कि नौकरानी बन कर रही बाद में दुर्जन सिंह ने पनवा के माँ बाप परिवार आदि को बुलाकर पनवा का विवाह सुमुखि के देवर हूबलाल से डोला कड़वा विवाह करा दिया तब से पनवा का उप नाम डोला कड़वा पड़ गया ।
पमवा बहन के डोला कड़वा विवाह हेतु बड़ी बहन सुमुखि के साथ आई और स्वंय भी डोला कड़वा विवाह की एक पात्र बन कर रह गयी।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उतर प्रदेश।।

Language: Hindi
265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
😊गज़ब के लोग😊
😊गज़ब के लोग😊
*प्रणय प्रभात*
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
बसंत हो
बसंत हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
ना होगी खता ऐसी फिर
ना होगी खता ऐसी फिर
gurudeenverma198
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
काश तुम ये जान पाते...
काश तुम ये जान पाते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...