Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*

मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)
🪴🪴🍃🍂🍃🪴🪴
1)
मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप।
सुनी अयोध्या ने पुनः, रघुवर की पदचाप।।
2)
घर लौटे हैं राम जी, आज एक त्यौहार।
लाई बाइस जनवरी, अनुपम हर्ष अपार।।
3)
त्रेता जैसा लग रहा, तीर्थ अयोध्या धाम।
कण-कण मानो गा रहा, राम राम जय राम।।
4)
प्राण-प्रतिष्ठित हो गए, जन्मभूमि में राम।
भव से तारणहार है, केवल यह ही नाम।।
5)
आतुर सारा विश्व है, दर्शन को शुभ रूप।
राम अयोध्या के नहीं, सकल विश्व के भूप।।
6)
रामराज्य प्रभु राम जी, भारत की पहचान।
तीर्थ अयोध्या जन्म-भू, सरयू इसकी शान।।
————————————
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
2996.*पूर्णिका*
2996.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
*पहचानो अपना हुनर, अपनी प्रतिभा खास (कुंडलिया)*
*पहचानो अपना हुनर, अपनी प्रतिभा खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
Bhagwan sabki sunte hai...
Bhagwan sabki sunte hai...
Vandana maurya
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विश्व हुआ है  राममय,  गूँज  सुनो  चहुँ ओर
विश्व हुआ है राममय, गूँज सुनो चहुँ ओर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
*Author प्रणय प्रभात*
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
तू शौक से कर सितम ,
तू शौक से कर सितम ,
शेखर सिंह
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
Neeraj Agarwal
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
मदर्स डे
मदर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...