Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*

मालिक अपना एक : पॉंच दोहे
_________________________
(1)
कोई कहता साधना, कोई एतेकाफ
मतलब दोनों का यही, दिल भीतर से साफ
(2)
जिसने खाना कम किया, पहुॅंचा “उसके” पास
रोजा कोई कह रहा, कोई है उपवास
(3)
हमने-तुमने चाँद को, देखा सौ-सौ बार
टिका हुआ है चाँद पर, दोनों का त्यौहार
(4)
तुम भी कहते एक है, हम भी कहते एक
मालिक अपना एक तो, हम क्यों हुए अनेक
(5)
झगड़े कर-करके हुई, काली लम्बी रात
शुरू करें अब प्यार के, शब्दों से शुरुआत
_________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997 615451

Language: Hindi
303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*
*"मजदूर"*
Shashi kala vyas
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
किसी ने आंखें बंद की,
किसी ने आंखें बंद की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
■ हास्यप्रदV सच
■ हास्यप्रदV सच
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
भजन - माॅं नर्मदा का
भजन - माॅं नर्मदा का
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
बेदर्दी मौसम🙏
बेदर्दी मौसम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
सावन में शिव गुणगान
सावन में शिव गुणगान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस...
राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...