Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2022 · 3 min read

मारे –मारे फिरते फोटो ( हास्य-व्यंग्य )

मारे –मारे फिरते फोटो ( हास्य-व्यंग्य )
————————————————
जब से मोबाइल में कैमरा आया है, फोटुओं की बाढ़ आ गई है ।रोजाना ही हर कोई दस- पाँच फोटो खींच लेता है। समारोहों की 20- 25 फोटो फेसबुक और व्हाट्सएप पर पड़ी रहती हैं। रोजाना सौ-दो सौ फोटो डिलीट करने पड़ते हैं । यह जरूरी नहीं कि जो फोटो डिलीट किए जाएँ, वह सब आपके देखे हुए हों। अब इतने ज्यादा फोटो जब आएँगे ,तो उनको बगैर देखे हुए ही डिलीट करना पड़ेगा ।
यह भी एक तथ्य है कि ज्यादातर फोटो देखने योग्य नहीं होते अर्थात उनका चयन करके उन्हें सोशल मीडिया पर नहीं डाला जाता । कई फोटो तो इतने बेकार खींचे हुए होते हैं कि समझ में नहीं आता कि फोटो प्रेषित करने वाले ने उन्हें व्हाट्सएप या फेसबुक पर क्यों डाला । कोई फोटो हिला हुआ है ,कोई धुंधला है ,कोई आधा दिख रहा है । ऐसे फोटुओं का तो कोई औचित्य ही नहीं है । लेकिन फिर भी क्योंकि फोटो की कीमत अब रही नहीं । और जो चीज मुफ्त में मिलती है, उसका सम्मान समाप्त हो जाता है । वही हाल फोटो का हो रहा है।
पहले जमाना कुछ और था । फोटो खींचना और खिंचवाना एक बड़ा अवसर होता था । फोटोग्राफर को बुलाना पड़ता था। और तब वह बीस- पच्चीस फोटो खींचता था । उस समय कोई अगर फोटो खिंचवाने के लिए खड़ा है और उसका फोटो खिंच जाए, तो एक बड़ी उपलब्धि होती थी। ऐसा लगता था , जैसे इतिहास में नाम अमर हो रहा है।
एक बार एक शादी में मैं और मेरे दो परिचित फोटो खिंचवाने के लिए खड़े हुए। जैसे ही फोटो खिंचने वाला था, उसी समय एक अपरिचित व्यक्ति आया और ग्रुपफोटो में खड़ा हो गया । बोला ” 3 लोगों का फोटो अच्छा नहीं रहता ।” फोटोग्राफर ने हम चारों का फोटो खींचा और उसके बाद फोटोग्राफर और वह चौथे सज्जन दोनों ही इधर-उधर हो गए । हम तीनों ने आपस में एक दूसरे से पूछा कि वह चौथा व्यक्ति कौन था ? पता चला कि उसे कोई नहीं जानता था । लेकिन वह महाशय तो इतिहास में अपना नाम अमर कर ही चुके थे।
कई बार फोटोग्राफर इतने चतुर नहींहोते थे कि वह ढंग से फोटो खींच सकें। इसलिए कुछ ऐसे फोटो भी होते हैं जिसमें दूल्हा- दुल्हन एक दूसरे को जयमाला पहना रहे हैं, लेकिन पुष्पहार से दोनों के ही चेहरे ढ़क गए । पता ही नहीं चल रहा कि दूल्हा कौन है, दुल्हन कौन है ? शादी किन-किन की हो रही है ?
कुछ फोटोग्राफर जरूरत से ज्यादा सजग होते हैं। वह एक बार की वजाए दो-दो तीन-तीन बार जयमाला पड़वा देते हैं । कई फोटोग्राफर तो पूरे कार्यक्रम के दौरान यही कहते रहते हैं …”जरा इधर देखिए… जरा इधर देखिए “…आदमी पता चला कि किसी को खाना खिला रहा है और फोटो खिंचवाने के चक्कर में भोजन का कौर मुँह की बजाय नाक में चला जा रहा है ।
खैर कुछ भी कहो ,फोटो खींचना चाहिए और जोरदार खींचना चाहिए ।अखबारों के फोटोग्राफर जब अखबार के लिए फोटो खींचते हैं, तब वह पहले से बता देते हैं कि आप लोग हमारी तरफ मत देखना । अगर आपने हमें देख लिया तो फोटो खराब हो जाएगा। इसलिए सब लोग इस तरह की एक्टिंग करते हैं कि मानो उन्हें पता ही न हो कि उनका फोटो खींचा जा रहा है । इस दृष्टि से पत्रकारिता वाली फोटो खिंचवाने में एक्टिंग का बड़ा भारी योगदान है।
“””””””‘”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 9 99761 5451

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अच्छे दिन
अच्छे दिन
Shekhar Chandra Mitra
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं  मैं।
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
खुद को कभी न बदले
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
करिए विचार
करिए विचार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
Ms.Ankit Halke jha
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" समर्पित पति ”
Dr Meenu Poonia
ग़ज़ल
ग़ज़ल
नितिन पंडित
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
आर.एस. 'प्रीतम'
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
श्रृंगार
श्रृंगार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
हस्ती
हस्ती
kumar Deepak "Mani"
तुमसे कहते रहे,भुला दो मुझको
तुमसे कहते रहे,भुला दो मुझको
Surinder blackpen
अध्यात्म का शंखनाद
अध्यात्म का शंखनाद
Dr.Pratibha Prakash
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
💐प्रेम कौतुक-208💐
💐प्रेम कौतुक-208💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
*परिस्थितियॉं बड़ी होतीं, असर इन्हीं से आया है (मुक्तक)*
*परिस्थितियॉं बड़ी होतीं, असर इन्हीं से आया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
कुछ बातें ज़रूरी हैं
कुछ बातें ज़रूरी हैं
Mamta Singh Devaa
" यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है
कवि दीपक बवेजा
Loading...