Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

मारुति मं बालम जी मनैं

(शेर)- देखो सगली दुनिया आज,जावै हैं देखण मेलों।
मारुति मं बालम मनैं भी, ले चालो दिखाणे मेलों।।
—————————————————————-
मारुति मं बालम जी मनैं।
मेलों दिखावो तैं आज मनैं।।
शॉपिंग करा द्यो मेला मं मनैं।
चालो लेकर मेला मं मंनैं।।
मारुति मं बालम——————।।

राजपूतानी सूट मनैं दिलावो।
सैंडिल बाटा री मनैं दिलावो।।
चश्मा मं मारो फोटू खिंचावो।
चालो लेकर मेला मं मनैं।।
मारुति मं बालम——————-।।

चाल मेला मं, तनैं शॉपिंग कराऊँ।
बिठाऊँ चकरी मं, सिनेमा दिखाऊँ।।
चाट कचोरी तनैं, जमकर खिलाऊँ।
गौरी दिखाऊं आज, मेलो तनैं।।
मारुति मं आज लेकर तनैं।
गौरी दिखाऊँ आज, मेलो तनैं।।
मारुति मं बालम———————।।

ऊंट की सवारी, मेला मं करावो।
बादाम सेंक,जूस मनैं पिलावो।।
चूड़ी, कंगन तैं मनैं दिलावो।
चालो लेकर मेला मं मनैं।।
मारुति मं बालम——————–।।

कठपुतली रो खेल तनैं दिखाऊं।
पणिहारी नाच मूं तनैं दिखाऊं।।
जो तूं चावै वोही तनैं दिलाऊं।
गौरी दिखाऊं आज मेलो तनैं।।
मारुति मं आज लेकर तनैं।
गौरी दिखाऊं आज मेलो तनैं।।
मारुति मं बालम———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Rajasthani
Tag: गीत
313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"मैं तेरी शरण में आई हूँ"
Shashi kala vyas
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
सत्य और अमृत
सत्य और अमृत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
"ई-रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
💐प्रेम कौतुक-370💐
💐प्रेम कौतुक-370💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीत
गीत
Pankaj Bindas
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
यह कलयुग है
यह कलयुग है
gurudeenverma198
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
हम मुहब्बत कर रहे थे
हम मुहब्बत कर रहे थे
shabina. Naaz
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*पानी सबको चाहिए, पक्षी पशु इंसान (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, पक्षी पशु इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3239.*पूर्णिका*
3239.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...