Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2017 · 1 min read

माया

” माया ”
———–

अनिर्वचनीय तेरा साया ,
हे माया ! तू है अलबेली |
तेरा निज स्वरूप बताकर ,
शंकर ने की दूर पहेली ||

तू ही तो “अध्यास” सदा है ,
तू ही निर्मित करती “अज्ञान” |
तेरे ही चक्कर में होता……
ब्रह्म और संसार का ज्ञान ||

हरदम रहे तू शान्त-अनादि ,
नित्य जग को “मिथ्या” बनाती |
भाव-अभाव रूप में रहकर !
आत्म-अनात्म विभेद बताती ||

हे ! श्याम-सलौनी माया तू ,
अज्ञान मनस में जगाती है |
“दीप-जहन” ने जान लिया है !
कि “भ्रम” भी तू ही कराती है ||
———————–
डॉ० प्रदीप कुमार दीप

Language: Hindi
363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*
*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
■ भारत और पाकिस्तान
■ भारत और पाकिस्तान
*प्रणय प्रभात*
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
*उधो मन न भये दस बीस*
*उधो मन न भये दस बीस*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
जिंदगी झंड है,
जिंदगी झंड है,
कार्तिक नितिन शर्मा
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
मृगनयनी
मृगनयनी
Kumud Srivastava
🌸 आने वाला वक़्त 🌸
🌸 आने वाला वक़्त 🌸
Mahima shukla
3210.*पूर्णिका*
3210.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पीछे मुड़कर
पीछे मुड़कर
Davina Amar Thakral
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
शेखर सिंह
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
shabina. Naaz
Loading...