Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

माफ कर देना मुझको

समझना मेरी मजबूरियां,
और कर देना माफ मुझको,
मत सोचना फिर कभी ऐसा,
कि मुझको सीखा दिया है किसी ने,
और बना दिया है मुझको मतलबी।

मत देना दोष दूसरों को,
देखना अपने अतीत को,
अपने चश्मे से अपने भीतर,
मत करना यह फिक्र तुम,
कि बाकी है अभी मेरा साथी।

तुमको ही तलाशना है मेरे लिए,
शर्म करके मेरे लिए साथी,
तुम कहते हो कि मैं तो,
अब हो गया हूँ बेफिक्र और बेशर्म,
सोचता नहीं हूँ तुम्हारे बारे में,
तुम्हारे सुख और दुःखों के बारे में।

और मदद के लिए खरीद रहा हूँ,
बहुत सारी सुविधाएं आलीशान,
पानी की तरहां बहाकर पैसा,
तुम्हारी सोच है कि मैं,
नहीं मान रहा हूँ तुम्हारी बात,
जी रहा हूँ अब आजाद होकर,
लेकिन क्या यह मेरा हक नहीं है,
और तब क्यों नहीं की थी,
तुमने शर्म और मुझ पर दया,
कर देना माफ मुझको।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
Phool gufran
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
2609.पूर्णिका
2609.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
Taj Mohammad
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
💐प्रेम कौतुक-394💐
💐प्रेम कौतुक-394💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
तुम्हें
तुम्हें
Dr.Pratibha Prakash
साहित्य - संसार
साहित्य - संसार
Shivkumar Bilagrami
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...