Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

माफ़ कर दो दीवाने को

मेरे दिल में बसे हो तुम
इसको तोड़ो न अब तुम
हो गया ये दिल तेरा अब
इसपर अब राज करते तुम

दोस्ती तोड़कर सीधे
दुश्मनी पर आ गए तुम
इतनी भी क्या जल्दी थी
जो ऐसे पराए हो गए तुम

सपने थे ये तेरे मेरे
क्यों इनको तोड़ आए तुम
दिल में मेरे दर्द है
क्यों मुझको छोड़ आए तुम

जुदाई ये अच्छी नहीं
अब तो मान जाओ तुम
तेरे ही साथ खड़ा हूँ मैं
कदम तो बढ़ाओ तुम

है प्यार अभी भी वैसा
ये महसूस कर लोगे तुम
आकर मेरी बाहों में
खोकर देख लो अगर तुम

अगर हो जाऊंगा मैं गुम
पछताओगे फिर तुम
माफ कर दो जल्दी से
अपने दीवाने को तुम।

7 Likes · 2 Comments · 1744 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
Ravi Prakash
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
हो समर्पित जीत तुमको
हो समर्पित जीत तुमको
DEVESH KUMAR PANDEY
पुस्तक
पुस्तक
Vedha Singh
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
विनती
विनती
Kanchan Khanna
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
Suryakant Dwivedi
जागो जागो तुम,अपने अधिकारों के लिए
जागो जागो तुम,अपने अधिकारों के लिए
gurudeenverma198
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
कवि रमेशराज
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
"आशा"
Dr. Kishan tandon kranti
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...