Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

मानो जीवन को सदा, ट्वंटी-ट्वंटी खेल (कुंडलिया)

मानो जीवन को सदा, ट्वंटी-ट्वंटी खेल (कुंडलिया)
➖➖➖➖➖➖➖➖
मानो जीवन को सदा, ट्वंटी-ट्वंटी खेल
धुऑंधार जो खेलता, हुआ जीत से मेल
हुआ जीत से मेल, विजेता बन वह जीता
अधरों पर मुस्कान, तुष्टि का रस वह पीता
कहते रवि कविराय, दौड़ को ही सच जानो
जहॉं रुकेगी चाल, मरण आ पहुॅंचा मानो
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
कलियुग की सीता
कलियुग की सीता
Sonam Puneet Dubey
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
Atul "Krishn"
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
महसूस होता है जमाने ने ,
महसूस होता है जमाने ने ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
Ravi Prakash
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr Shweta sood
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
Neelam Sharma
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
VEDANTA PATEL
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
3160.*पूर्णिका*
3160.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
मत बनो उल्लू
मत बनो उल्लू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नौकरी वाली बीबी
नौकरी वाली बीबी
Rajni kapoor
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
Loading...