Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2022 · 1 min read

माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं …

माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
पर इतनी भी नाक़ाबिल नहीं मैं।

खुद को समझूँ खुदा, मूढ़ और को,
हूँ लेकिन इतनी ज़ाहिल नहीं मैं।

काम जो भी मिला तन-मन से किया,
कपट औ झूठ में शामिल नहीं मैं।

समझती हूँ हर इक चाल तुम्हारी,
होश पूरा मुझे, ग़ाफिल नहीं मैं।

सिर्फ दिखावे की हों बातें जहाँ,
मजमे में ऐसे दाखिल नहीं मैं।

औरों को चोट दे मिलती है जो
कर सकूँ खुशी वो हासिल नहीं मैं।

मुझको निरंतर चलते ही जाना,
दरिया हूँ बहता, साहिल नहीं मैं।

-© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
“मनके मेरे मन के” से

2 Likes · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
जीवन का मूल्य
जीवन का मूल्य
Shashi Mahajan
समझौता
समझौता
Shyam Sundar Subramanian
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
#महाकाल_लोक
#महाकाल_लोक
*प्रणय प्रभात*
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
Pardushan
Pardushan
ASHISH KUMAR SINGH
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
मतदान
मतदान
Aruna Dogra Sharma
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़रूरत के तकाज़ो
ज़रूरत के तकाज़ो
Dr fauzia Naseem shad
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
19. कहानी
19. कहानी
Rajeev Dutta
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
Loading...