Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 1 min read

मानसिक रोगों का उपचार संभव है

डिप्रेशन रोग अन्य कारणों के साथ-साथ वंशानुक्रम के प्रभाव के कारण भी होता है यह आवश्यक नहीं है कि रोगी के निकट संबंधियों में कोई इस रोग से पीड़ित हो लेकिन बहुदा इस प्रकार के रोग उनके संबंधियों में मिलते हैं वंशानुक्रम के कारण इन रोगियों के मस्तिष्क में कुछ विशेष रसायन घटते हैं तो डिप्रेशन हो जाता है कुछ समय पश्चात स्वयं सामान्य भी हो जाते हैं अतः यदि इस रोग की चिकित्सा भी ना की जाए तो जोगी स्वयं सामान हो जाता है यदि रसायन बढ़ जाता है तो मेनिया हो जाता है कुछ रोगियों में यह रसायन केवल घटते ही है और बढ़ते नहीं है ऐसे में बार-बार डिप्रेशन रोग रहता है उपचार द्वारा रसायनों के स्तर को सामान्य किया जा सकता है अतः डिप्रेशन की पहचान कर तुरंत उपचार कराना चाहिए …….
रघुवीर सिंह राजकीय महाविद्यालय ललितपुर
की पुस्तक “””ज्ञान पथिक ;;अष्टम अंक 2022 मैं छपे मेरे लेख….✍️💯🧑‍🎓
Ankit halke jha
M.Sc.(🌾🌿botany⚘️🌿)

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
— कैसा बुजुर्ग —
— कैसा बुजुर्ग —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
..
..
*प्रणय प्रभात*
दूरी सोचूं तो...
दूरी सोचूं तो...
Raghuvir GS Jatav
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
ये रब की बनाई हुई नेमतें
ये रब की बनाई हुई नेमतें
Shweta Soni
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
Neelam Sharma
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
महाकाल हैं
महाकाल हैं
Ramji Tiwari
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
"मौका मिले तो"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
हमको गैरों का जब सहारा है।
हमको गैरों का जब सहारा है।
सत्य कुमार प्रेमी
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
Loading...