Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

मानव जीवन में तर्पण का महत्व

मानव जीवन अमूल्य है , यह हमारे पूर्व जन्म के सत्कार्य का परिणाम है , जब मानव प्राप्त होता है । ईश्वर ने मानव जीवन दे कर ईश्वर आराधना, सत्कार्य , परमार्थ का मौका दिया है, जिसका लाभ हर मानव को उठाना चाहिए।
भारतीय पुराण, संस्कृति में हर पहलू का सूक्ष्म अध्ययन किया गया है , इसी आधार पर मानव पर धारित ऋणों का विचार किया है । यह मानव की जिम्मेदारी है , कि वह अपने इसी जीवन में ऋण मुक्त हो , इसके लिए शास्त्र सम्मत तरीकों से उपाय किये जाये ।
इसी क्रम में श्राद्ध पक्ष में विधि-विधान से अपने पूज्य पितरों का तर्पण किया जाये ।
तर्पण के माध्यम से हम अपने सभी ऋणों के निवारण पर भी विचार करते है और तर्पण के माध्यम से उनका आवाह्न करते हुए , ऋण मुक्ति और अपना परिवार, समाज और देश की सुख, समृद्धि की कामना करते है , पितरों से आषीश प्राप्त करते है ।

संतोष श्रीवास्तव भोपाल

Language: Hindi
1 Like · 359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चेहरा
चेहरा
नन्दलाल सुथार "राही"
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
"पुतला"
Dr. Kishan tandon kranti
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
कूड़े के ढेर में भी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
DrLakshman Jha Parimal
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
Jay Dewangan
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
Ravi Prakash
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
Shankar N aanjna
"विचार-धारा
*Author प्रणय प्रभात*
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
Swara Kumari arya
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
झूम रही है मंजरी , देखो अमुआ डाल ।
झूम रही है मंजरी , देखो अमुआ डाल ।
Rita Singh
💐प्रेम कौतुक-372💐
💐प्रेम कौतुक-372💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
कलमी आजादी
कलमी आजादी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
खुली आंखें जब भी,
खुली आंखें जब भी,
Lokesh Singh
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
Loading...