Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

मानवता

मानवता

”बेटा अपनी गाड़ी साइड में कर लो. पीछे एम्बुलेंस सायरन बजाते हुए आ रही है.” साइड में बैठे रमेश जी ने कार चला रहे अपने बेटे से कहा.
“क्या पापा, आप भी इन फालतू बातों पर विश्वास करते हैं. ऐसे एम्बुलेंस में अक्सर पेशेंट की बजाय हॉस्पिटल के स्टाफ वाले घूमते-फिरते हैं और बेवकूफ टाइप के लोग उन्हें साइड देते रहते हैं.” बेटे ने अपने ही स्टाइल में जवाब दिया.
“बेटा, अपवाद हर जगह होते हैं. अपवादों को ही आदर्श स्थिति मान लेना और उसके अनुरूप आचरण करना तो ठीक नहीं है न. जब भी तुम्हें एम्बुलेंस के सायरन की आवाज सुनाई दे, एक संवेदनशील नागरिक की तरह ये समझ लेना कि उसमें तुम्हारे अपने किसी करीबी रिश्तेदार पेशेंट को हॉस्पिटल पहुंचाया जा रहा है, तो तुम्हारी गाड़ी अपने आप साइड में लग जाएगी. इससे किसी की जान बचाने का रास्ता खुल सकता है बेटा।” रमेश जी ने समझाया.
“पापा, आप एकदम सही कह रहे हैं. आपने तो मेरी आँख ही खोल दी है.” अब तक वह गाड़ी साइड में कर चुका था.
रमेश जी ने देखा एम्बुलेंस सायरन बजाते हुए बहुत आगे बढ़ चुकी है.
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
दिल पागल, आँखें दीवानी
दिल पागल, आँखें दीवानी
Pratibha Pandey
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
आपसा हम जो
आपसा हम जो
Dr fauzia Naseem shad
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#चिंतन
#चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
नवजात बहू (लघुकथा)
नवजात बहू (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
*आओ-आओ इस तरह, अद्भुत मधुर वसंत ( कुंडलिया )*
*आओ-आओ इस तरह, अद्भुत मधुर वसंत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
निगाहें
निगाहें
Sunanda Chaudhary
गांधी का अवतरण नहीं होता 
गांधी का अवतरण नहीं होता 
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चाँद-तारे"
Dr. Kishan tandon kranti
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
...
...
Ravi Yadav
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
पल भर कि मुलाकात
पल भर कि मुलाकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
Loading...