Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

मानवता के डगर पर

प्यारे तुम मुझे भी अपना लो ।
गुमराह हूं कोई राह बता दो।
युं ना छोडो एकाकी अभिमन्यु सा रण पे।
मुझे भी साथले चलो मानवताकी डगर पे।।
वहां बडे सतवादी है।
सत्य -अहिंसाकेपुजारी हैं।।
वे रावण के अत्याचार को मिटा देते हैं।
हो गर हाहाकार तो सिमटा देते है।।
इस पथ मे कोई जंजीर नही
जो बांधकर जकड सके।
पथ मे कोई विध्न नही
जो रोककर अ क ड सके।।
है ऐ मानवता की डगर निराली।
जीत ले जो प्रेम वही खिलाडी।।
यहां मजहब न भेदभाव,सर्व धर्म समभाव से जिया …है।
वक्त आए तो हस के जहर पीया करते है।।
फिर तो स्वर्ग यहीं है नर्क यहीं है।
मानव मानव ही है सोच का फर्क है।।
ओ प्यारे !इस राह से हम न हो किनारे …
न हताश हो न निराश हो।
मन मे आश व विश्वास हो।।
फिर आओ जग मे जीकर
जीवन -ज्योत जला दे।
सुख-शांति के नगर को स्वर्ग सा सजा दे।।
आज भी राम है कण – कण मे
भारत – भारती के जन जन को बता दे।।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 81 Views
You may also like:
एक ज़िंदा मुल्क
एक ज़िंदा मुल्क
Shekhar Chandra Mitra
तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा
तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा
Seema 'Tu hai na'
चलो अब गांवों की ओर
चलो अब गांवों की ओर
Ram Krishan Rastogi
" लज्जित आंखें "
Dr Meenu Poonia
Mere hisse me ,
Mere hisse me ,
Sakshi Tripathi
सामन्ती संस्कार
सामन्ती संस्कार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
*पीड़ा हिंदू को हुई ,बाँटा हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
*पीड़ा हिंदू को हुई ,बाँटा हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आजमाइशों में खुद को क्यों डालते हो।
आजमाइशों में खुद को क्यों डालते हो।
Taj Mohammad
क्या करूँगा उड़ कर
क्या करूँगा उड़ कर
सूर्यकांत द्विवेदी
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
Abhishek Pandey Abhi
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
Sushila Joshi
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाँ, उनका स्थान तो
हाँ, उनका स्थान तो
gurudeenverma198
सट्टेबाज़ों से
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
कहां पता था
कहां पता था
dks.lhp
युवा शक्ति
युवा शक्ति
Kavita Chouhan
पेड़ो की दुर्गति
पेड़ो की दुर्गति
मानक लाल"मनु"
विचार मंच भाग -7
विचार मंच भाग -7
Rohit Kaushik
वक्त से पहले
वक्त से पहले
Satish Srijan
बारिश
बारिश
Saraswati Bajpai
भूख (मैथिली काव्य)
भूख (मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
मूल्य
मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ఇదే నా తెలంగాణ!
ఇదే నా తెలంగాణ!
विजय कुमार 'विजय'
दीप बनकर जलो तुम
दीप बनकर जलो तुम
surenderpal vaidya
💐💐जगत में कौन आत्ममुग्ध नहीं है💐💐
💐💐जगत में कौन आत्ममुग्ध नहीं है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर ले कुछ बात
कर ले कुछ बात
जगदीश लववंशी
Loading...