Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

मात -पिता पुत्र -पुत्री

मात -पिता पुत्र -पुत्री
केँ लालन -पालन करैत अछि
मुदा पुत्र अपन मात -पिता
केँ बुढ़ापा मे छोड़ि दैत अछि ! @ परिमल

461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
" बीकानेरी रसगुल्ला "
Dr Meenu Poonia
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
Dheerja Sharma
2487.पूर्णिका
2487.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपने दिल की कोई जरा,
अपने दिल की कोई जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
In wadiyo me yuhi milte rahenge ,
In wadiyo me yuhi milte rahenge ,
Sakshi Tripathi
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक "ट्रस्टीशिप-विचार" का विमोचन
Ravi Prakash
"In the tranquil embrace of the night,
Manisha Manjari
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...