Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

मातु शारदे वंदना

मातु शारदे वंदना,करता जग है आज।
रहती माता की कृपा,रहता सुंदर साज।
रहता सुंदर साज,सोच उत्तम बन जाती।
हो विद्या शृंगार,बुद्धि नव ऊर्जा पाती।
विनय करे नित ओम,मातु उत्तम विचार दे।
बरसा के मधु प्यार,तार दो मातु शारदे।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

2 Likes · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
The Sound of Birds and Nothing Else
The Sound of Birds and Nothing Else
R. H. SRIDEVI
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
gurudeenverma198
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
नर नारायण
नर नारायण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
#प्रभात_वंदन
#प्रभात_वंदन
*प्रणय प्रभात*
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
फितरत या स्वभाव
फितरत या स्वभाव
विजय कुमार अग्रवाल
क्रिकेटफैन फैमिली
क्रिकेटफैन फैमिली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
Ravi Prakash
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पिता
पिता
Harendra Kumar
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शुद्धिकरण
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
Loading...