Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

मातु काल रात्रि

मातु काल रात्रि

माता कालरात्रि तुम आओ।
भय संशय सब दूर भगाओ।।
शक्ति सातवीं तुम हो माता।
श्याम वर्ण है तुमको भाता।।
बुरी शक्ति को आप मिटातीं।
भक्ति शक्ति को नित्य बढ़ातीं।।
माँ का गर्दभ बना सवारी।
महिमा तेरी माता न्यारी।।
जगत अंधता आप मिटाओ।
ज्ञान पुंज जग में बरसाओ।।
मानव मानव को पहचाने।
प्रेम शक्ति को उर से जाने।।
काल रात्रि से दानव डरते।
कर्म अनोखे डरकर करते।।
विनय ओम पर माँ बरसाओ।
ज्ञान बुद्धि दे साज सजाओ।।
जीवन लक्ष्यों को मैं जानूँ ।
भक्ति मार्ग का सत पहचानूँ ।।
ज्ञान बुद्धि अरु माया पाऊँ।
महिमा तेरी निशि दिन गाऊँ।।

1 Like · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*औषधि (बाल कविता)*
*औषधि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
Jay prakash
Jay prakash
Jay Dewangan
51…..Muzare.a musamman aKHrab:: maf'uul faa'ilaatun maf'uul
51…..Muzare.a musamman aKHrab:: maf'uul faa'ilaatun maf'uul
sushil yadav
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
नौकरी वाली बीबी
नौकरी वाली बीबी
Rajni kapoor
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
Sukoon
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
सेज सजायी मीत की,
सेज सजायी मीत की,
sushil sarna
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दूर की कौड़ी ~
दूर की कौड़ी ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
बिना वजह जब हो ख़ुशी, दुवा करे प्रिय नेक।
बिना वजह जब हो ख़ुशी, दुवा करे प्रिय नेक।
आर.एस. 'प्रीतम'
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्राप्त हो जिस रूप में
प्राप्त हो जिस रूप में
Dr fauzia Naseem shad
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
Loading...