Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

माता – पिता

मां का पालन, खून से सींच कर ,
पिता का पालन, जिमेदारी से,

मां का पालन, उंगली पकड़ कर चलना सीखना,
पिता का पालन, अपने पैरो पर खड़ा करना,

मां का पालन, सलीका सीखना,
पिता का पालन, झूठ और सच को जान कर ज़िंदगी जीना,

दोनो का पालन अतुलनीय है,
🙏🙏

Language: Hindi
2 Comments · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अक्षय तृतीया*
*अक्षय तृतीया*
Shashi kala vyas
You are painter
You are painter
Vandana maurya
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गायें गौरव गान
गायें गौरव गान
surenderpal vaidya
मेरी (उनतालीस) कविताएं
मेरी (उनतालीस) कविताएं
श्याम सिंह बिष्ट
तुमने दिल का कहां
तुमने दिल का कहां
Dr fauzia Naseem shad
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
■ आज की लघुकथा
■ आज की लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
कोन ल देबो वोट
कोन ल देबो वोट
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
हवा बहुत सर्द है
हवा बहुत सर्द है
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...