Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

माता पिता

माता पिता

मात-पिता के श्री चरणों में, बारंबार प्रणाम है
मात पिता ही इस धरती पर, बच्चों के भगवान हैं
लख-लख कष्ट सहे जीवन में, ना करते कभी बखान हैं
मात पिता ही इस धरती पर, जीवन की पहचान हैं
जन्म दिया और पाला पोसा, जीवन सारा कुर्बान है
सदा जिए बच्चों के खातिर, उनका यही जंहान है
मां की ममता, पिता का साया, शब्दों में कोई कह न पाया
शेष शारदा करें निरंतर, इनकी महिमा का गान है
ऋणी है जग मात पिता का, और ऋणी भगवान हैं
मात पिता के श्री चरणों में, बारंबार प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
अंतर्मन
अंतर्मन
गौरव बाबा
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
साथ
साथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
Pushpraj devhare
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
Buddha Prakash
■ मुक़ाबला जारी...।।
■ मुक़ाबला जारी...।।
*प्रणय प्रभात*
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
काफी है
काफी है
Basant Bhagawan Roy
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
Vicky Purohit
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
Ravi Prakash
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
भारत देश महान है।
भारत देश महान है।
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
Loading...